कुंबले ने कहा ‘परफेक्ट 10’ मेरी किस्मत में ही निर्धारित था

0
933

7 फरवरी का दिन भारतीय क्रिकेट के लिए विशेष महत्व रखता है, क्योंकि इसी दिन 18 साल पहले दिल्ली टेस्ट में पाकिस्तान के खिलाफ अनिल कुंबले ने इतिहास रचा था | टेस्ट पारी में कुंबले पूरे 10 विकेट लेने वाले दुनिया के दूसरे गेंदबाज बने थे |

कुंबले से पहले यह कारनामा सिर्फ इंग्लैंड के जिम लेकर ने टेस्ट पारी में पूरे 10 विकेट लिए थे | 4 से 7 फरवरी 1999 तक कुंबले ने फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए दूसरे टेस्ट के दौरान इस उपलब्धि को दोहराया | 18.2 ओवर के जादुई स्पेल के दौरान कुंबले ने 37 रन देते हुए यह चमत्कारिक प्रदर्शन किया |

420 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही पाकिस्तान को सईद अनवर (69) और शाहिद अफरीदी (41) ने अच्छी शुरुआत दिलवाकर शतकीय भागीदारी की | कुंबले ने अफरीदी को पैवेलियन भेज और इसके बाद विकेटों की झड़ी ही लगा दी थी | एक के बाद पाक बल्लेबाज कुंबले के शिकार बनने लगे | कुंबले पाक के 9 विकेट ले चुके थे, जिसके बाद क्रीज पर कप्तान वसीम अकरम और वकार यूनुस थे | वकार ने अकरम से कहा था कि हम रन आउट हो जाते है ताकि कुंबले यह उपलब्धि हासिल नहीं कर पाए, लेकिन अकरम ने इससे इंकार किया |

दूसरी तरफ भारतीय कप्तान मो. अजहर ने जवागल श्रीनाथ समेत अपने दूसरे गेंदबाजों को निर्देश दिए थे कि गेंद ऑफ स्टंप के बहुत बाहर डाले ताकि विकेट नहीं मिले | कुंबले ने अकरम को लक्ष्मण के हाथों झिलवाकर अपना 10वां शिकार किया और इतिहास रच दिया | कुंबले टेस्ट पारी में पूरे 10 विकेट लेने वाले दुनिया के दूसरे गेंदबाज बने | उन्होंने 26.3 ओवरों में 74 रन देकर 10 विकेट लिए |

इसी के साथ 207 रनों पर पाकिस्तान की पारी सिमटी और यह मैच भारत ने 212 रनों से जीता | कुंबले के इस प्रदर्शन से भारत 1979-80 के बाद 23 टेस्ट मैचों में पाकिस्तान पर पहली जीत दर्ज कर पाया |

साथ ही इस अवसर पर कुंबले ने बीसीसीआई से बात करते हुए कहा की यह मेरी किस्मत में निर्धारित था और इस उपलभ्य को पाने के लिए कोई तैयारी नहीं की थी |

 

 

LEAVE A REPLY