धोनी के फैन ने पैरों पर गिर कर ऑटोग्राफ तो ले लिया, लेकिन बाद में इसे खो दिया

0
3003
Pic source : IANS

25 वर्षीय कांदिवली जिन्होंनेअपने आइडल एमएस धोनी से मिलने के लिए सुरक्षा का उल्लंघन कर पुणे सुपरजाइंट्स के विकेटकीपर के हस्ताक्षर लेने में सफलता प्राप्त की |

यह घटना तब हुई जब मंगलवार की रात महेंद्र सिंह धोनी के उत्साही प्रशंसक राकेश पटेकर आईपीएल का पहला क्वालीफ़ायर देखने वानखेड़े स्टेडियम आये थे | और तभी पटेकर वानखेड़े के उत्तर स्टैंड में बैठे हुए अपने नायक से अपनी आँखें नहीं हटा पाए |

बल्लेबाज़ी करते हुए पुणे की शुरुआत बेहद ख़राब रही थी जब धोनी मैदान पर आये तो 13वें ओवर में स्कोर 3 विकेट के नुकसान पर 89 रन था | जब पुणे की पारी को ख़त्म होने में सिर्फ 12 गेंदे बची थीं तो उनका स्कोर सिर्फ 121 रन था और धोनी के बल्ले से एक चौका भी नहीं निकला था |

लेकिन, इसके बाद धोनी ने ऐसी बल्लेबाज़ी का नज़ारा पेश किया | पहले 17 गेंदों पर धोनी ने सिर्फ 1 छक्के की मदद से 14 रन बनाए लेकिन इसके बाद अगली 9 गेंदों पर 4 छक्के लगाते हुए 26 रन ठोंक डाले | यानि कुल मिलाकर 26 गेंद पर 40 रनों की ताबड़तोड़ पारी |

उस जीत के कुछ समय बाद ही पटेकर ने महेंद्र सिंह धोनी और टीम के लिए जयकार करने के बजाय, दर्शकों को चकरा दिया, क्योंकि वह अपने नायक का स्वागत करने के लिए स्टैंड से कूद पड़े और अपने िडोल से मिलने के लिए उनक तरफ दौड़ लगाने लगे |

क्रिकेटर को अनजाने से पकड़ने पर पटेकर अपने क्रिकेट आइकन के पैरों पर गिर पड़े और फिर एक सेफ़ी लेने के लिए धोनी से अनुरोध किया | पूर्व कप्तान ने उनके इस अनुग्रह को नहीं मन, लेकिन पाटेकर की नोटबुक पर हस्ताक्षर किए, जबकि पाटेकर से निपटने के इंतजार में स्वयंसेवकों ने भी आश्चर्यचकित महसूस किया | धोनी के बाद, चार स्वयंसेवकों (मुंबई पुलिस के साथ काम करने वाले क्रिकेटर) ने मैच के बाद के उसे मैदान दे दूर ले गए और नियंत्रण कक्ष के अंदर ले जाकर उसे पूछताछ की।

एक बार जब पुलिसकर्मियों को आश्वस्त हुआ कि पटेकर एक असली प्रशंसक थे – उसने अपनी उत्तर स्टैंड सीट के लिए 2,500 रुपये का भुगतान भी किया था, तब उन्होंने उसे छोड़ने के लिए कहा | लेकिन, जब वह पुलिसकर्मियों से छूटे तब पाटेकर को एहसास हुआ कि उन्होंने अपनी हस्ताक्षर पुस्तक खो दी है |

जिसके बाद पाटेकर ने मिडडे से बात करते हुए कहा की, “मैं संतुष्ट हूं कि मैं अपने आइडल से मिला, लेकिन दूसरी ओर, उनके दिए हस्ताक्षर वाली नोटबुक मुझ से खो गई हैं | मैंने पुलिस वालों से वादा किया था कि मैं सुरक्षा स्टैंड पर कभी भी नहीं कूदूंगा, लेकिन मुझे धोनी की ऑटोग्राफ को खो देने के बारे में बहुत दुख हैं |”

LEAVE A REPLY